हर पार्टी के घोषणा पत्र में स्वास्थ्य सुविधाएं और बेहतर करने के वादे हैं। सरकारें आई और गईं, लेकिन स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार नहीं हो सका। पिछले दस वर्षों में नए भवनों का निर्माण हुआ, लेकिन आज उनकी हालत पुराने से भी बदतर है।

क्षेत्र के अस्पतालों में कहीं डॉक्टर नहीं मिलते तो कहीं डॉक्टरों ने आना ही बंद कर दिया है। अस्पताल में जनरल वार्ड तक नहीं है। एक्सरे मशीन नहीं, लेकिन एक्सरे टेक्नीशियन की तैनाती है।

विधानसभा क्षेत्र की तीन सीएचसी में से दो में एक्सरे मशीन है, लेकिन अल्ट्रासाउंड मशीन का वादा आज भी जमीन पर नहीं आ सका। दरियाबाद में अल्ट्रासाउंड की बात दूर यहां एक्सरे मशीन तक नहीं नसीब हो सकी। जबकि यहां टेक्नीशियन की तैनाती है। एक्सरे के अभाव में मरीजों को रेफर किया जाता है।

आधी आबादी को इलाज के लाले
दरियाबाद में सीएचसी सहित चार पीएचसी हैं। यहां सीएचसी को छोड़ कहीं भी महिला चिकित्सक नहीं हैं। पीएचसी पर इलाज वार्ड ब्वाय व फार्मासिस्ट के भरोसे आज भी है। यहां पर आधी आबादी को उपचार के लिए निजी अस्पतालों की शरण लेनी पड़ती है।

दरियाबाद में 15 एएनएम की तैनाती है। जबकि 18 एएनएम सेंटर बने हैं। पीएचसी नगर, गाजीपुर, अलियाबाद में बने एएनएम सेंटर पर एएनएम तैनाती के बावजूद मिलती नहीं। उपकेंद्रों की हालत काफी दयनीय है। लालगंज, रसूलपुर कला, दरियाबाद नगर, आदि जगहों पर बने स्वास्थ्य उपकेंद्र कबाड़ हैं। तीन उपकेंद्र सिसौना, वीर किठाई, दुल्हदेपुर पर एएनएम की तैनाती नहीं है।

पीएचसी में नहीं मिलते डॉक्टर
दरियाबाद नगर की पीएचसी में डॉ मनोज सोनकर, अलियाबाद में डॉ रीतेश श्रीवास्तव, कोटवाधाम में डॉ बेन्जामिन, गाजीपुर में डॉ कुलदीप मौर्य व वीके मिश्र की तैनाती है। इन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर डॉक्टर अक्सर नदारद ही रहतें हैं। अधिकांश चिकित्सक इमरजेंसी ड्यूटी के दिन ही यहां मिलेंगे।

खंडहर में न्यू पीएचसी भवन
वर्ष 2006 में गाजीपुर व अलियाबाद में नए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण हुआ। दोनों खड़ंहर में तब्दील है। सा़फ सफाई न होने से परिसर में गंदगी का अंबार है ही, वार्ड भी इससे अछूते नहीं हैं। सबसे ज्यादा खराब हालत अलियाबाद पीएचसी की है। यहां पर शुद्ध पेयजल भी नसीब नहीं है। यही हाल कोटवा धाम पीएचसी का है।

दरियाबाद सीएचसी की तरफ जनप्रतिनिधियों ने ध्यान नहीं दिया। यहां पर दो बेड के इमरजेंसी वार्ड के अलावा जनरल वार्ड नहीं है। जिससे ओपीडी में गम्भीर हालत के आने वाले मरीजों का उपचार कर रेफर ही किया जाता है।

प्रकाश की नहीं व्यवस्था
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर प्रकाश की कोई व्यवस्था नहीं हो सकी है। यहां पर रात के अंधेरे में अस्पताल खोजना पड़ता है।

डॉक्टरों की तैनाती एक नजर में

दरियाबाद सीएचसी-

महिला चिकित्सक–2

पुरुष चिकित्सक-7

——–

पीएचसी

गाजीपुर – 2

अलियाबाद – 1

कोटवाधाम – 1

दरियाबाद नगर -1